व्यंजन (Vyanjan Alphabetic Rap) Lyrics और Review – KR$NA

हिंदी वर्णमाला के अनुसार ये क से शुरू होकर ज्ञ तक खत्म हो जाने वाला Vyanjan Alphabetic Rap Song है जिसे गाया एवं लिखा है Rapper KR$NA ने। यह सभी रैप सॉन्ग की तरह नहीं है बल्कि कुछ हटकर है। इसे हम कवि पाठ की तरह भी अनुसरण कर सकते हैं। यह Rap Song 17 नवम्बर 2016 को रिलीज हुआ था पर उस समय कोई सुनने वाला नहीं था लेकिन आज इस रैप Song को हर कोई पसंद करता है। क शब्द से शुरू होकर ज्ञ में खत्म होता है जिसके कई सारे मायने हैं अंदर कई सारी पहेलियां एवं कहानियों को प्रदर्शित किया गया है।

Review

यह रैप सॉन्ग उन लोगों को शायद पसंद नहीं आएगा जो लोग Club टाइप Rap सॉन्ग पसंद करते हैं क्योंकि यह नाम के लिए रैप है असल में यह कवि पाठ का जबरदस्त उदाहरण है रैप Style में। इस रैप सॉन्ग में हिंदी में वर्णमाला के अनुसार शुरू से हर शब्द का कुछ मतलब निकलता है और अंत में ज्ञानी के साथ खत्म होता है। ज्यादातर रैप सॉन्ग में Lyrics या Lines का कुछ खास मतलब नहीं होता लेकिन यह रैप Song आपको बहुत कुछ सिखाएगा।

Details

  • Song Title: व्यंजन।
  • Singers: KR$NA (कृष्णा कौल)
  • Lyrics: KR$NA
  • Produce: Insane
  • Director: Inflict (@shotbyinflict)
  • Mix and Mastered: लक्ष्मण परसुराम

Lyrics

नमस्ते, प्यारे छात्रों आज हमारे साथ हैं दिल्ली के मशहूर गायक कृष्णा और हम आपको सिखाने जा रहे हैं हिन्दी व्यंजन गाना इस गीत में हम बोलेंगे व्यंजन अक्षर और कृष्णा rap में गायेंगे उस व्यंजन अक्षर से शुरु होने वाले शब्द, तो फिर क्यों न शुरू करें।

(क)
काले करतूत करते कमीने कमाने को
कालेधन के कारण ,कंगाल किया कितने किसानो को
कहों कसूर किसका , कत्ले आम के काबिल कौन
कृष्णा का कलम कातिल
कितने कागजो को काटे कौन

(ख)
खूनी खेल खेले खलनायक खिलाड़ी खास
खोजे खाद मे खजाना खतरनाक खयालात
खोकली खातिरदारी खून खराबा खूब खतरे
खूबसूरत खामोशी या खलबली की खबरें

(ग)
गलतियाँ गंभीर , गमगीन गाना गाएँगे
गली गली गरीबी ,गद्दार गद्दी गवाएँगे
गुस्सा,गाली गलोच ,गुनहगार को गिराएँगे
गाँव मे गतिरोध , गन की गोलियां गिनायांगे

(घ)
घड़ी घड़ी घुसे घुसपैठी, घमंड घटाएँ
घाटी घमासन घटना घर पे घरवाले घबराए
घटिया घूषखोरी घपलो पे घुडसवार
घर के घनिष्ठ है घहराई मे घडियाल

(च )
चोर चाहे चंदा ,चोरी चुपके चले चाल
चौकन्ने चौकीदार ने चिपकाए चाटे चार
क्या चंदु के चाचा ने चंदु के चाची को
चाँदी के चम्मच से चटनी चटाके किया है चमत्कार

(छ )
छुपके छुपके छोरा छोरी छक्के छुडाते
छोटी छोटी छटपटाहट सुनके छत पर छुप जाते
छोटे छात्र करे छेडकानी ,तो छट से पड़ी छड़ी
छोकरा छुरी छीने , छुपके देखे चोर की छवि

(ज )
जनाब लाजवाब ,जबसे लिया है जनम
जय जवान जिनके जीवनदान से जीते जंग
जानवर जिनकी जाती जंगली , जाली जिनकी जात

(झ)
झेला जो झमेला झूठा झूकी जिसकी झांक

(ट)
टल्ली टहले टोली ,टकराते टूटी टांग
टीआई टांगे टेड़ी टोपी , टकला था टुपाक

(ठ)
ठुल्ले ठेठ ठग्गी ठेकेदार को ठहराता

(ड)
डाकू डाले डाका , डेली डांट के डराता
डांवाडोल ,ड्रामा , डरपोक डरके डगमगाता

(ढ)
ढक्कन ढीला ढंग से ढके ना
तो बिन ढकेले ढलजाता

(त)
तकलीफ़े तुझे तडपाती , तमन्ना तेरी तोडी
तकदीर के ताले तोड़ो तबीयत तेरी तो भी
तभी तो तपते तलवे तभी से तनहाई
तानाशाही मे मचाई ,तमंचे से तभाही

(थ)
थोड़ा थोड़ा थुथुलाता , थक के थैला थमाता
थाने मे थप्पड पड़े तो थोड़ा थोड़ा थडथडाता

(द)
देवता दरबान दुनिया के खोले दरवाजें
दिल्ली वाले दबंग दगाबाजो को दफनाते

(ध)
धरना धर्मशाला में , धुएंदार धमाका
धांदली धुंधले धंधे में धडाधड धूम धमाका

(न)
निराश नागरिक नालायक नेता से नाराज़
नाइंसाफी का नाश , नवाब निशानेबाज

(प)
पीने पे पाबंदी पटना मे पकड़े तो पंगा
पाजी पहने पगड़ी पंजाब मे पड़े पंजा
पाकिस्तान के पड़ोसी परेशान ,तोभी
पिस्तौल पकड़े पठान पर ईनाम पार पहुची

(फ)
फसह फकीर , फैलाके फसाद ,फिर भी फरार
फिलहाल ,फ़ौजियों ने करे फटेहाल

(ब)
बंगाल मे बवाल , बचे बाल बाल
बुरेहाल बाहर , बेमिशाल बाढ़ बरकरार बहार

(भ)
भरे भष्ट्राचार के भागीदार
भगोड़ो की भरमार ,
भारी भरकम भेड़चाल

(म)
मन मे मजबूती , मजबूरी मे मजदूरी
मेरा मंत्री मन से मूडी
मगर मंत्री बाँके मंत्रीपद मे मालामाल

(य)
यारा , याद , यॉट मेरा यातायात
यशोधन

(र)
रातो रात ,रचाता रात
रणभूमि से रवाना राजपूताना राजा भागा
राजस्थान के रेगिस्तान मे रेत ,
इंसान हो जाता राख़

(ल)
लूट के लेकर लकडी लाया , लालची लकडाहार
लड़की लाजवाब , लाखों लड़ती लगातार

(व)
वर्दी वाले वीर वो वतन की वफादारी
वैसे वर्तमान मे वर्णभेद विनाशकारी
विलंभ करे विपक्षी ,वो वरिष्ठ वकील

(श)
शैतान शाना शिकारी ,शकल से शरीफ

(ष)
षट्कोण , षड्यंत्र

(स)
सपने संजीव
संघठन के साथी सीखे सुरीला संगीत

(ह)
हर हफ्ते होते हत्याकांड ,
हजारो हारे हौसले
हडताल हमारा हक़ ,
हमारा हमराही हिप हॉप है

(क्ष)
क्षत्रिय

(त्र)
त्रिशूल

(ज्ञ)
ज्ञानी

और समाप्त हुई हमारी कहानी।

Author

Hindi Song Review

हिंदी सॉन्ग रिव्यू: भारत का पहला गाने की समीक्षा करने वाला पहला ब्लॉग है। 2017 से ये ब्लॉग लगातार काम कर रहा है और आगे भी काम करता रहेगा।

Posts comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Warning: Undefined array key "src" in /home/dbxvgobl/domains/hindisongreview.com/public_html/wp-content/plugins/elementor/core/page-assets/loader.php on line 86

Warning: Undefined array key "dependencies" in /home/dbxvgobl/domains/hindisongreview.com/public_html/wp-content/plugins/elementor/core/page-assets/loader.php on line 86

Warning: Undefined array key "version" in /home/dbxvgobl/domains/hindisongreview.com/public_html/wp-content/plugins/elementor/core/page-assets/loader.php on line 86